mithilamirror@gmail.com
+919560295811

महाकवि विद्यापतिक स्मृतिमे निकालल गेल कलश-यात्रा

गिरीश पार्क कोलकाता मे स्थापित महाकवि विद्यापतिक प्रस्तर-प्रतिमा के समक्ष सँ भूतनाथ मंदिर धरि निकलैत अछि कलश-यात्रा। कोलकाताक गिरीश पार्कमे “मिथिला विकास परिषद” द्वारा सन् १९९० ई. मे कविपति विद्यापतिक मूर्ति स्थापना भेल छल। ई ऐतिहासिक कार्य कोलकाताक शस्य श्यामल भूमि पर रचल गेल इतिहासक पश्चात प्रत्येक बरख महाकवि विद्यापतिक अवसान दिवसक पावन स्मृतिमे कोलकाताक”मिथिला … Continue reading महाकवि विद्यापतिक स्मृतिमे निकालल गेल कलश-यात्रा

कार्तिक पूर्णिमा पर आस्थाक डूब लेबाक लेल उमड़ल श्रधालुक भीड़

पटना, मिथिला मिरर: आय कार्तिक पूर्णिमा अछि। पूर्णिमा के अवसर पर राजधानी पटना समेत राज्यक अलग-अलग इलाका मे गंगा घाट पर भोरे सं स्नान- ध्यान करबाक लेल श्रद्धालु उमड़ि उमड़ अछि। गंगा मे डुबकी लगेबाक बाद लोक पूजा-अर्चना कय रहल छथि। रविदिन राति सं बिहारक बहुतो जगह सं श्रद्धालु पटना, बक्सर, भागलपुर के गंगा घाट पर पहुंचल छथि। कार्तिक पूणिमा … Continue reading कार्तिक पूर्णिमा पर आस्थाक डूब लेबाक लेल उमड़ल श्रधालुक भीड़

भाई-बहिनक अनूपम पावनि ‘भरदुतिया’ विशेष, अवश्य पढ़ी

दिल्ली-मिथिला मिररः भाई-बहिनक प्रेमकऽ प्रतीक भरदुतिया (भ्रातृ द्वितीया) कऽ पर्व दीवाली कऽ दू दिनक बाद, कार्तिक मासक शुक्ल पक्ष केर द्वितीया तिथि कऽ मनाओल जाइत अछि। एही पर्व मे बहिन भाईकें निमंत्रण दऽ अप्पन घर बजावैत छथि। अरिपन बना कऽ पिड़ही पर भाई केँ बैसायल जाइत अछि। ललाठ पर पिठार आ सिंदुरक ठोप कऽ, पान … Continue reading भाई-बहिनक अनूपम पावनि ‘भरदुतिया’ विशेष, अवश्य पढ़ी

हर्षोल्लासक संग मनाओल गेल ३३म लक्ष्मी पूजा महोत्सव

दिल्ली,मिथिला मिरर-मनीष झा बौआभाइः विशेष प्रचलनमे लक्ष्मी पूजा दीयाबातीक राति मे मनाओल जाइत अछि मुदा मधुबनी जिलान्तर्गत रहिका प्रखंडक बेलाम गाममे लक्ष्मी (संग गणेश आ सरस्वती) पूजाक तीन दिवसीय आयोजन (१५-१६-१७ अक्टूबर क’) वृहत स्तर पर आसिनक पूर्णिमा मने कोजगराक राति स’ तीन दिन धरि बेस धूमधाम स’ मनाओल गेल. स्थापना बर्ख १९८४ ई. मे … Continue reading हर्षोल्लासक संग मनाओल गेल ३३म लक्ष्मी पूजा महोत्सव

दोसर दिन ब्रह्म ज्ञानक प्रतिमूर्ति ब्रह्मचारिणीक पूजा हेतनि।

मधुबनी,मिथिला मिरर-सुजीत कुमार झाः प्रतिपदाक दिन मां शैलपुत्रीक पूजाक बाद आब दोसर दिन मां ब्रह्मचारिणीक पूजा हैत। मां ब्रह्मचारिणीकें ब्रह्म ज्ञान सं परिपूरति मानल जाइत अछि। ब्रह्मक अर्थ ज्ञान होइत अछि आ चारिणीक अर्थ आचरण करैवला। अहि प्रकारे कहि सकैत छी जे तप आ आचरणकें जाहि रूपमे हमरा सब देखैत आ सोचैत छी ओ मां … Continue reading दोसर दिन ब्रह्म ज्ञानक प्रतिमूर्ति ब्रह्मचारिणीक पूजा हेतनि।

कलशस्थापनक संग दुर्गा पूजा आरंभ भेल

हमर पितामह स्थापिता श्री १०८ श्मशान काली मंदिर मे सेहो कलशक स्थापना भेल जे भरि साल रहत  । खास बात ई जे एहि मे बगल सँ बहय बाली बागमती के जल देल जाइत अछि । ई जल वर्ष भरि तँ स्वच्छ रहितँहि अछि बादो मे दुषित नहि होइत अछि । जखन कि फराक सँ यदि … Continue reading कलशस्थापनक संग दुर्गा पूजा आरंभ भेल

प्रतिपदाक दिन मां शैलपुत्रीक पूजा

दिल्ली-मिथिला मिरर: प्रथंम शैलपुत्री च द्वितीयं ब्रह्मचारिणी। तृतीयं चंद्रघण्टेति कूष्माण्डेति चतुर्थकम्।। पंचमं स्कन्दमातेति षष्ठं कात्यायनीति च। सप्तमं कालरात्रीति महागौरीति चाष्टमम्।। नवमं सिद्धिदात्री च नवदुर्गाः प्रकीर्तिताः। उक्तान्येतानि नामानि ब्रह्मणैव महात्मना।। ऊँ जयन्ती मंगला काली भद्रकाली कपालिनी। दुर्गा क्षमा शिवा धात्री स्वाहा स्वधा नमोस्तु ते।। जय त्वं देवि चामुण्डे जय भूतार्तिहारिणि। जय सर्वगते देवि कालिरात्रि नमोऽस्तु ते।। … Continue reading प्रतिपदाक दिन मां शैलपुत्रीक पूजा

महालयाक संग दुर्गा-दुर्गाक ध्वनि सं गुंजयमान भेल वातावरण

दिल्ली,मिथिला मिरर-सुजीत कुमार झाः ऊँ खड्गं चक्रगदेषुचापपरिघांछूलं भुशुण्डीं शिरः शंखं संदधतीं करैस्त्रिनयनां सर्वांगभूषावृताम। नीलाश्मद्युतिमास्यपाददशकां सेवे महाकालिकां,यामस्तौत्स्वपिते हरौ कमलजो हन्तुं मधुं कैटभम्। मां जगजननीक अराधना महालया सं शारदीय नवरात्राक विधिवत शुरूआत भय गेल, आश्विन मासक शुक्ल पक्षक प्रतिपदा तिथी क मैयाक कलश स्थापना हेतनि मुदा ओहि सं पहिने शुक्रदिन राइतमे मिथिलाक प्रायः सब गांव मे मां दुर्गाक … Continue reading महालयाक संग दुर्गा-दुर्गाक ध्वनि सं गुंजयमान भेल वातावरण

जितिया पाबनि, मणिकांत झा’क कविता

जितिया सन पाबनि देश मे ने आन छै, माँछ संग मरूआ एकर पहचान छै। मरूआ रोटी संग मारा ओ गैंची खरि तेल चढ़नि से सरिसो की रैंची झीमनीक पात के सेहो विधान छै जितिया सन पाबनि देश मे ने आन छै। अध रतिए मे दाइ माइ के ओंगठन धीया पुता सब लागय जेना टनमन चूड़ा … Continue reading जितिया पाबनि, मणिकांत झा’क कविता

‘जितिया पाबनि’ बड़ भारी…

दिल्ली, मिथिला मिरर: मिथिला ओना त भरि साल पावनिक लेल प्रसिद्द अछि, मुदा आश्विन आ कार्तिक महिना मे पावनिक विशेष रूप देखल जाइत अछि। जाहि मे एकटा जितिया पावनि सेहो अछि। जितिया पावनिक सब सं बेशी प्रतीक्षा धीया-पुता के रहैत अछि। एकर कारण अछि जे जितिया पावनिक ओंगठन धीया-पुता के कहय पैघो लोक के आकर्षित करैत … Continue reading ‘जितिया पाबनि’ बड़ भारी…